Breaking News

ब्याज माफियाओं की प्रताड़ना से पीड़ित कर्जदार ने की आत्महत्या।

ब्याज माफियाओं की प्रताड़ना से पीड़ित कर्जदार ने की आत्महत्या।

मालपुरा-

सख्त कानून और कठोर नियम होने के बावजूद इन दिनों मालपुरा शहर में सूदखोरों का आतंक दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। जिनके जाल में सैंकड़ों लोग मजबूरी के कारण फँसते जा रहे हैं। जरूरतमंद लोगों की मजबूरी का बखूबी फायदा उठाकर उन्हें अपनी गिरफ्त में लेने वाले तथाकथित ब्याजखोर ब्याजखोरी का खुल्लेआम गोरखधंधा कर रहे है। यह लोग छोटे या जरूरतमंद दुकानदारों या गरीब परिवार के लोंगों को ब्याज पर रुपये उधार देकर मोटी राशि ब्याज के रूप में वसूल कर रहे हैं। इन ब्याजखोरों के जाल में फंसकर कई लोंगो की जिंदगी बर्बाद हो गई तो कई आत्महत्या करने को मजबूर हो गए।
वही ब्याज माफियाओं की प्रताड़ना से पीड़ित कर्जदार के आत्महत्या किए जाने का मामला मालपुरा थाने में दर्ज हुआ है।

थानाधिकारी कैलाश कुमार विश्नोई ने बताया कि मालपुरा के राम मोहल्ला निवासी मनमोहन पुत्र शिव शंकर शर्मा ने मामला दर्ज कराते हुए बताया कि उसके भाई लोकेश शर्मा ने ब्याज माफियाओ की प्रताड़ना से पीड़ित होकर आत्महत्या कर ली थी। जिसका खुलासा घर पर मिले सुसाइड नोट से हुआ है। मृतक लोकेश की ओर से लिखा गया सुसाइड नोट भी मृतक के भाई की ओर से पुलिस को दिया गया है।

मामले में मृतक के भाई की ओर से मालपुरा शहर सहित गनवर, दड़ावट, देशमी, मेहरू, मोरला, बृजलाल नगर व केरिया निवासी एक दर्जन लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज करवाया गया है। मामले की जांच एएसआई रामनारायण गुर्जर को सौपी गई है। लोकेश शर्मा की मौत 18 नवंबर 2021 को हुई थी।
माणक चौक निवासी मनमोहन शर्मा ने थाने में दर्ज करवाई एफआईआर में सत्यनारायण माहेश्वरी मालपुरा, नंदलाल गुर्जर दडावत, शंकर लाल चोयल गणवर, कालूराम चोयल गणवर, दिनेश बडगुर्जर देशमी, भंवरलाल सिनसिनवार गणवर, पदमचंद जैन चौगाई वाले, पारस जैन मेहरू वाले, मनोहर सिंधी उर्फ मन्ना सिंधी मालपुरा, गिर्राज बागला चाय वाला, नितिन कुमावत एडवोकेट, रामचंद्र नैन मुंशी गणवर सहित अन्य पर 20 रुपया सैकड़ा का ब्याज वसूलने व मानसिक रूप से प्रताड़ित करने एवं भाई की मृत्यु का जिम्मेदार बताते हुए मामला दर्ज करवाया है।
मालपुरा शहर में ब्याजखोरी का धंधा परवान पर चढ़ा हुआ है। कई ब्याजखोर कम्पनी खोलकर कम्पनी की आड़ में ब्याजखोरी का खुले आम धंधा कर रहे हैं।
लेकिन अभी तक कम्पनी की आड़ में ब्याज खोरी का धंधा करने वालों पर भी प्रशासनिक कार्यवाही शून्य नजर आ रही है।

Check Also

विभिन्न पर्व को देखते हुए ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त

🔊 इस खबर को सुने Gopal NayakChief Editor विभिन्न पर्व को देखते हुए ड्यूटी मजिस्ट्रेट …