Breaking News

जिला प्रभारी सचिव प्रकाश चंद्र शर्मा ने ली जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक

जिला प्रभारी सचिव प्रकाश चंद्र शर्मा ने ली जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक
जिले में विद्युत, पेयजल, चिकित्सा व्यवस्था सहित विभिन्न कार्यों की समीक्षा कर दिए निर्देश
टोंक, 28 मई। जिला प्रभारी सचिव प्रकाश चंद्र शर्मा मंगलवार को अपने दो दिवसीय दौरे पर टोंक पहुंचे। पहले दिन कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर विद्युत आपूर्ति, पेयजल व्यवस्था, हीटवेव एवं मौसमी बीमारियों समेत अन्य विभागों के कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान जिला कलेक्टर डॉ. सौम्या झा सहित सभी जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।
जिला प्रभारी सचिव ने कहा कि जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग भीषण गर्मी को देखते हुए लोगों की पेयजल समस्या का त्वरित समाधान करें। पेयजल की कम मात्रा, प्रेशर से पानी नहीं आना, अंतिम छोर तक पानी नहीं पहुंचने, दूषित पानी की सप्लाई, पेयजल लाइनों में लीकेज, अवैध नल कनेक्शन से संबंधित समस्याओं का प्राथमिकता से निस्तारण किया जाएं। साथ ही, कंट्रोल रूम सहित दूरभाष पर आने वाली शिकायतों का भी उसी दिन समाधान करने का प्रयास करें।
जिले में विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था की जानकारी लेते हुए जिला प्रभारी सचिव ने कहा कि विद्युत आपूर्ति के समय वोल्टेज ठीक रहे। जिन क्षेत्रों में कम वोल्टेज से विद्युत सप्लाई की सूचना मिले वहां विद्युत आपूर्ति में सुधार करें। शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति में व्यवधान होने पर उसे शीघ्र दुरुस्त करें। विद्युत ट्रिपिंग, फॉल्ट आदि के कारण पेयजल आपूर्ति प्रभावित नहीं हो।
जिला प्रभारी सचिव ने सभी चिकित्सा संस्थानों में जिले के उच्च अधिकारियों को निरीक्षण करने के निर्देश दिए। खराब कूलर, पंखे एवं एसी को शीघ्र ठीक कराया जाएं। उन्होंने सीएमएचओ से हीट वेव एवं मौसमी बीमारियों से संबंधित स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने एक मई से ओपीडी में आने वाले रोगियों की संख्या की जानकारी लेते हुए दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित रखने के निर्देश दिए।
गौशालाओं में हीट वेव एवं गर्मी से पशुधन को स्वस्थ रखने के लिए सूखे व हरे चारे व पेयजल की उचित व्यवस्था रहनी चाहिए। जिला प्रभारी सचिव ने पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. छोटू लाल बैरवा से गौशालाओं को मिले अनुदान की स्थिति के बारे में जानकारी लेते हुए दवाइयों की पर्याप्त व्यवस्था रखने के निर्देश दिए।
जिला प्रभारी सचिव ने जिले में अवैध खनन की रोकथाम के लिए राजस्व, खनिज, वन पुलिस व परिवहन विभाग को समन्वय बनाकर कार्य करने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने सहायक खनिज अभियंता से 1 जनवरी 2024 से 27 मई तक अवैध खनन के दर्ज प्रकरणों, कुल जब्त अवैध खनन, जब्त वाहन एवं अनुमानित राशि की जानकारी ली। उन्होंने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सरिता सिंह को जिले में ड्रग्स एवं महिला अपराध को रोकने में सक्रियता से कार्य करने के निर्देश दिए। शुद्ध आहार-मिलावट पर वार अभियान के तहत चिकित्सा विभाग द्वारा गठित खाद्य सुरक्षा दल की कार्यवाही की जानकारी ली। सीएमएचओ ने बताया कि प्रतिदिन अभियान के तहत कार्रवाई की जा रही है।
जिला प्रभारी सचिव ने एडीएम सुरेश चौधरी से राजकीय विभागों के ई-फाईल डिस्पोजल के समय, एवं सीईओ प्रतिष्ठा पिलानिया से मानसून प्रारंभ होने से पूर्व जल संरक्षण, वर्षा, जल संचयन संरचनाओं के संबंध में कार्य योजना बनाने के लिए निर्देशित किया। मानसून के समय पौधारोपण अभियान को जन आंदोलन बनाकर अधिक संख्या में इसे मूर्त रूप देने पर जोर दिया।

Check Also

जलदाय मंत्री कन्हैया लाल चौधरी ने सूरजपुरा फिल्टर प्लांट का किया औचक निरीक्षण।

🔊 इस खबर को सुने Gopal NayakChief Editor जलदाय मंत्री कन्हैया लाल चौधरी ने सूरजपुरा …